एनसीआरबी ने खोल दी बिहार की पोल, मर्डर मामले में 19 मेट्रोपोलिटन शहरों में पटना टॉप पर

0
हत्या के मामले में पड़ोसी राज्यों से बेहतर रिकॉर्ड

नेशन भारत, सेंट्रल डेस्क:  बिहार में लगातार बढ़ रही अपराध की घटनाओं पर सत्ता पक्ष और विपक्ष के बीच अक्सर सियासी बहसबाजी होती रहती है. विपक्ष सरकार को घेरने में लगा रहता है, वहीं शासक गठबंधन उसका प्रतिकार करता रहता है. लेकिन, नेशनल क्राइम रिकार्ड्स ब्यूरो यानी ने अपनी रिपोर्ट से सच उजागर किया है. नेशनल क्राइम रिकार्ड्स ब्यूरो  ने वर्ष 2018 के लिये जारी अपनी रिपोर्ट में देश भर के 19 मेट्रोपोलिटन शहरों में होनेवाली हत्याओं में पटना को पहले स्थान पर रखा है.

एनसीआरबी की रिपोर्ट के अनुसार पटना में हर एक लाख व्यक्ति पर साल 2018 में 4.4 लोगों की हत्या हुई है. जबकि जयपुर में यह आंकड़ा एक लाख में 3.3 रहा और लखनऊ में प्रति लाख 2.9 लोगों की हत्या हुई .

वर्ष 2018 में हुई हत्याओं की बात की जाए तो बिहार का आंकड़ा पड़ोसी राज्य झारखंड से बेहतर रहा है. बिहार में 2018 में एक लाख पर 2.2 लोगों की हत्या का रिकॉर्ड दर्ज किया गया जबकि झारखंड में यह रिकॉर्ड 4.6, अरुणाचल प्रदेश में 4.2 और असम में 3.6 दर्ज किया गया है.

रिपोर्ट के अनुसार वर्ष 2018 में महिलाओं के खिलाफ अपराध की संख्या 16,920 हो गए जो कि वर्ष 2017 की 14,711 की तुलना में 2,200 से अधिक मामले हैं. बता दें कि वर्ष 2016 में रिपोर्ट किए गए मामलों की संख्या 13,400 थी. रिपोर्ट में कहा गया है कि राज्य में 98.2 प्रतिशत बलात्कार के मामलों में अपराध पीड़ितों के जानने वालों ने किया.

दहेज के कारण होने वाली मौत में भी पटना पहले पायदान पर है. यहां वर्ष 2018 में एक लाख की आबादी पर 2.5 लोगो की मौत दहेज के कारण हुई है. जबकि कानपुर में भी प्रति लाख 2.5 लोगों की मौत दहेज के कारण हुई. यानी दहेज के लिए हुई मौतों पर पटना और कानपुर संयुक्त रूप से पहले स्थान पर हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here