मौसम विभाग ने बिहार के लिए जारी किया अलर्ट, 72 घंटों में भारी वर्षा का अनुमान

0
IMD
IMD

भारत मौसम विज्ञान विभाग (IMD) ने भविष्यवाणी की कि उत्तर प्रदेश, असम और मेघालय जैसे राज्यों में बुधवार को भारी वर्षा होने की संभावना है।
मौसम पूर्वानुमान एजेंसी ने यह भी बताया कि कोंकण, गोवा, उप-हिमालयी, पश्चिम बंगाल, सिक्किम, बिहार और तटीय कर्नाटक में अलग-अलग स्थानों पर भारी से बहुत भारी वर्षा होने की संभावना है।

“पूर्वी राजस्थान, केरल, माहे, दक्षिण आंतरिक कर्नाटक, मध्य प्रदेश, मध्य महाराष्ट्र, हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड, पंजाब, हरियाणा, चंडीगढ़ और दिल्ली, गंगीय पश्चिम बंगाल, ओडिशा, झारखंड और नागालैंड, मणिपुर, मिज़ोरम और त्रिपुरा, “आईएमडी ने अपने अखिल भारतीय मौसम चेतावनी बुलेटिन में कहा।

बिहार, झारखंड, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, ओडिशा और पश्चिम बंगाल और सिक्किम में अलग-अलग स्थानों पर बिजली गिरने के साथ-साथ गरज के साथ बौछार होने की संभावना है।

तेज हवाएँ, 40-50 किमी प्रति घंटे की गति, दक्षिण-पश्चिम और पश्चिम-मध्य अरब सागर पर तेज़ होने की संभावना है। मौसम विभाग ने मछुआरों को अगले कुछ दिनों तक समुद्र में उद्यम न करने की सलाह दी है।

ख़बरें यहाँ भी-

तड़पते युवक को अस्पताल में कराया भर्ती, इंसानियत को रखा कायम

IMD WARNING
IMD WARNING

बिहार में है बाढ़ के हालात 

मौसम विभाग ने जब 72 घंटों की चेतावनी बिहार एवं सटे राज्यों के लिए जारी कर दिया है उसी समय बिहार भारी और जानलेवा बाढ़ से जूझ रहा है जिससे निकलने का फिलहाल मौसम कोई रास्ता मुहैया नहीं करा पा रहा है।

सरकार के तमाम दावों और कोशिशों के बावजूद बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में लोग सड़क पर रहने को मज़बूर हैं जहाँ उन्हें पर्याप्त मात्रा में न तो खाद्य सामग्री मिल रही है और न ही ऐसी ज़िन्दगी से निकलने का तरीका

ऐसे हालात में अब सारा कुछ मौसम के ऊपर निर्भर करता है जिससे राहत की उम्मीद फिलहाल तो नहीं की सकती क्योंकि मौसम विभाग ने अगले 72 घंटों में बिहार एवं सटे राज्यों में भारी बारिश की चेतावनी जारी कर दिया है।

नेशन भारत फेसबुक पर भी 

पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें  

बारिश से नेपाल मचा सकता है और तबाही  

बिहार में बाढ़ के हालात का कारण नेपाल के डैम से पानी छोड़ा जाना है, और ऐसे में अगर बारिश अपना कहर नेपाल में गिराता है तो बिहार इससे सबसे ज्यादा प्रभावित होगा और भविष्य में स्थिति और भयानक हो जायेगी।

बता दें की हफ्ते भर पहले ही नेपाल ने अपने बराज की 54 दरवाज़े खोल दिए जिससे कोसी नदी का जलस्तर अचानक से बढ़ गया और इसने उत्तर बिहार के कई जिलों चपेट में ले लिया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here