प्रवासियों को घर पहुँचाने में लगी परिवहन की 225 बसें, बिहार बॉर्डर से 10500 लोगों को भेजा गया प्रखंड मुख्यालय

0
लॉक डाउन के सातवें दिन विभिन्न राज्यों से बिहार बॉर्डर पर आए 10500 प्रवासी
  • परिवहन सचिव संजय कुमार अग्रवाल ने बताया कि विभिन्न राज्यों से आये लोगों को गाँव तक पहुचाने के लिए बिहार राज्य आपदा प्रबंधन विभाग के निर्देश के आलोक में परिवहन सुविधा उपलब्ध कराई जा रही है।
  • कोरोना वायरस के संभावित संक्रमण से बचाव के लिए यात्रियों को बस में बैठने से पूर्व और गंतव्य पर उतराने के बाद बसों को सेनेटाइज करने का निर्देश दिया गया है।

नेशन भारत, सेंट्रल डेस्क: कोरोना वायरस से संभावित संक्रमण से बचाव के लिए लगाए गए लॉक डाउन के सातवें दिन विभिन्न राज्यों से 10500 लोग बिहार पहुँचे। कैमूर, गोपालगंज, सिवान और नवादा बॉर्डर पर आने के बाद राहत शिविर में सभी की मेडिकल स्क्रीनिंग की गई। मेडिकल स्क्रीनिंग करने के बाद बसों से विभिन्न जिलों में भेजा गया।

परिवहन सचिव संजय कुमार अग्रवाल ने बताया कि विभिन्न राज्यों से आये लोगों को गाँव तक पहुचाने के लिए बिहार राज्य आपदा प्रबंधन विभाग के निर्देश के आलोक में परिवहन सुविधा उपलब्ध कराई जा रही है। मंगलवार को कुल 225 बसों से 10500 लोगों को बिहार के विभिन्न बॉर्डर से जिला मुख्यालय एवं प्रखंड मुख्यालय में उनके गांव तक पहुचाया गया।

कोरोना वायरस के संभावित संक्रमण से बचाव के लिए यात्रियों को बस में बैठने से पूर्व और गंतव्य पर उतराने के बाद बसों को सेनेटाइज करने का निर्देश दिया गया है। हर जिलों के लिए यात्रियों की संख्या के अनुसार बस की व्यवस्था की गई है।

सभी लोगों को बिहार राज्य के सीमावर्ती जिलों से बस द्वारा उनके गांव से संबंधित जिला मुख्यालय पहुचाया जा रहा है।
बसों में बैठने वाले यात्रियों को सोशल डिस्टेंसिंगऔर अन्य सावधानियों का पालन कराने का निर्देश दिया गया है। सभी चेकपोस्टों पर जिला परिवहन पदाधिकारी की तैनाती की गई है। उनके देख रेख में बसों का परिचालन किया जा रहा है।

Also Read: Aaj Ki Taja Khabar | Corona Virus News | Coronavirus Update News

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here