झारखण्ड में हुए मॉब लिंचिंग पर देश भर में आक्रोश एवं प्रतिक्रियाओं का दौर

0
LYNCHING
LYNCHING

मॉब लीचिंग को लेकर राजद एवं अम्बेडकर कल्याण संघ ने संयुक्त रूप से कैंडिल मार्च किया।मॉब लिंचिंग के मामले आतंकवाद की तरह हैं और ऐसे मामलों के दोषियों को सरकार सख्त सजा दें। झारखंड के सरायकेला खरसावां के तबरेज़ अंसारी उर्फ सोनू को भीड़ के द्वारा पीट पीटकर मार दिये जाने की सख्त शब्दों में निंदा की ।

 ख़बरें यहाँ भी-

समस्तीपुर में दो गुटों में विवाद के दौरान चली गोली, एक जख्मी

मॉब लिंचिंगआंतकवाद से भी खराब है । बेगुनाह एवं निहत्थे लोगों को एक विशेष वर्ग कि उत्तेजित एवं उन्मादी भीड़ द्वारा पीट पीट कर मार दिया जाना उनसे जबर्दस्ती धार्मिक नारे लगवाना इस देश के आम नागरिक को भय एवं आतंक के साए दहशत भरी जिन्दगी जीने को मजबूर कर रहा है।

यह कहते हुए नोखा मुख्य बाजार में दिन दयाल चौक से कैंडिल मार्च निकाल कर श्रधांजलि दी गई ।यह मौन जुलूस नोखा मुख्य मार्ग से बस स्टैंड तक गया, जहाँ मृतक को श्रद्धांजलि अर्पित की गई । मौके पर लोगों ने कहा कि यह स्थिति देश एवं समाज के लिए काफी खतरनाक है।

नेशन भारत फेसबुक पर भी

पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें  

केंद्र एवं राज्य सरकार को इसके विरुद्ध सख्त से सख्त एक्शन लेना चाहिए और इस तरह के लोगों पर दहशत गर्दी की धारा लगा कर उन्हें सख्त सज़ा देनी चाहिए। मौके पर अरविन्द चक्रवर्ती , परसुराम यादव , मकसूद हाशमी , सहित कई लोग मौजूद रहे

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here