शहीद औरंगज़ेब के भाइयों ने बनाया आतंकियों से बदले का प्लान

0
AURANGZEB
AURANGZEB

आतंकवादियों ने जिस जवान को छल से अपहरण कर मौत के घात उतारा था उस का नाम था औरंगज़ेब, श्रीनगर के शोपियां में ईद के मौके पर घर लौटना और आतंकियों द्वारा उसकी निर्मम हत्या कर दिया जाना कायरता को दिखाता है और दहशतगर्दी का एक माहौल बयान करता है।

हम अक्सर ऐसी घटनाओं को कुछ दिनों तक याद रखते हैं और फिर उसे भूल जाते हैं पर यह जो जवान है औरंगज़ेब उसने फिर से इस घटना को याद करने का एक मौका दिया।

ख़बरें यहाँ भी-

क्या है एंटी टेररिज्म बिल? जानें इसकी खासियत

औरंगज़ेब 5 भाइयों में सबसे बड़ा था और अब उसकी शहादत के बाद उसके दोनों छोटे भाइयों ने भी सेना में अपना खूंटा गाड़ लिया है और यह कह दिया है कि जिस तरह बड़े भाई ने देश के लिए अपनी प्राण न्योछावर की  उसी तरह हम भी  को इस ऐसी शहादत के लिए तैयार करेंगे और अपने भाई की मौत का बदला उन आतंकियों से लेंगे और देश का नाम रोशन करेंगे।

औरंगज़ेब के 4 भाई अबतक सेना में शामिल हो चुके हैं और अब छोटे भाई मोहम्मद असन ने भी सेना में भर्ती होने की इच्छा जताई है।

औरंगज़ेब के पिता बेटों की इस सफलता और निर्णय से काफी खुश हैं और उन्होंने नम आँखों से कहा कि मेरे बेटे को आतंकियों ने धोखे से मारा था अगर युद्ध में उसकी जान गयी होती तो एक तसल्ली रहती कि देश की खातिर लड़ते हुए उसने अपने प्राणों की आहुति दी परन्तु छल से हुई इस ह्त्या ने मन को झकझोर दिया है।

नेशन भारत फेसबुक पर भी 

पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें 

कैसे हुई थी औरंगज़ेब की हत्या ? 

राजौरी जिला के निवासी औरंगजेब जब पिछले साल जून के महीने में ईद मनाने के लिए अपने घर प्राइवेट वाहन से जा रहे थे तो पुलवामा में उनका अपहरण करके आतंकियों ने हत्या कर दी थी। सेना और पुलिस की टीम को गोलियों से छलनी उसका शव मिला था. शव के पड़ताल में यह सामने आया कि उसके सिर और गर्दन पर गोली मारी गई थी जिससे उसकी मौत मौके पर ही हो गयी थी।

आतंकियों ने औरंगजब की हत्या करने से पहले उसका एक वीडियो बनाया था, जिसमें उससे उस एनकाउंटर से जुड़ी जानकारी हासिल करने की कोशिश कर रहे थे, जिसका वह हिस्सा थे. बता दें कि औरंगजेब उस एनकाउंटर अभियान का हिस्सा थे, जिसमें आतंकी समीर टाइगर को मारा गया था और उस ऑपरेशन को अंजाम दिया था.

औरंगजेब को मरणोपरांत शौर्य चक्र से सम्मानित भी किया गया है।

भाइयों ने कहा था या तो सरकार ले बदला या तो वे खुद लेंगे 

औरंगज़ेब के छोटे भाई ने प्रधानमंत्री से गुहार लगाई थी कि या तो सरकार बदला ले आतंकियों से नहीं तो वे खुद ले लेंगे और इसी की तर्ज़ पर आगे बढ़ते हुए भाइयों ने भारतीय सेना में शामिल होना सही समझा और इसी राह पर आतंकियों से बदला लेने की बात कही उन्होंने।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here