CBSE EXAM:10वीं-12वीं की परीक्षा में घड़ी पहनकर न जाएं

0
केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) के 10वीं और 12वीं के बोर्ड परीक्षार्थी इस बार हाथ घड़ी पहनकर परीक्षा नहीं दे पाएंगे,

नेशन भारत, सेंट्रल डेस्क: केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) के 10वीं और 12वीं के बोर्ड परीक्षार्थी इस बार हाथ घड़ी पहनकर परीक्षा नहीं दे पाएंगे, क्योंकि बोर्ड ने इस पर पाबंदी लगा दी है। बोर्ड की मानें तो हर केंद्र पर कक्षाओं में दीवार घड़ी लगायी जायेगी। हालांकि परीक्षार्थी इस बार पारदर्शी मोजे पहन सकेंगे। बोर्ड ने इसकी जानकारी सभी केंद्राधीक्षकों को दी है।

अब तक हाथ घड़ी पहनने रोक केवल प्रतियोगी परीक्षाओं में होती थी। इसके अलावा बोर्ड परीक्षा के दौरान और किन-किन बातों का ख्याल केंद्राधीक्षक और परीक्षार्थी को रखना है, इसकी जानकारी बोर्ड सोमवार को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग से देगा। ज्ञात हो कि बोर्ड परीक्षा 15 फरवरी से शुरू हो रही है। इस बार परीक्षा शुरू होने के 10 मिनट पहले तक सेंटर में प्रवेश मिलेगा।

बोर्ड की मानें तो सभी केंद्रों को जीओ मैपिंग से टैग कर दिया गया है, ताकि परीक्षार्थी आसानी से केंद्र ढूंढ़ सकें। एडमिट कार्ड (प्रवेश पत्र) में लिखे केंद्र के नाम को जीओ मैपिंग में डालते ही उसका रास्ता पता चल जाएगा। प्रैक्टिकल की तरह सैद्धांतिक परीक्षा में भी बोर्ड ने आर्ब्जवर की टीम बनाई है। यह टीम रोज किसी भी केंद्र का औचक निरीक्षण करेगी। इस दौरान किसी तरह की गड़बड़ी मिलने पर तुरंत तुरंत बोर्ड को दी जाएगी।

पटना। बोर्ड परीक्षा में एनसीईआरटी से सारे प्रश्न आएंगे। प्री बोर्ड के रिजल्ट से परेशान होने की जरूरत नहीं है। कई बार प्री बोर्ड में अच्छे अंक नहीं आने के बावजूद बोर्ड परीक्षा में अच्छे अंक आते हैं। अभी परीक्षाफल की चिंता छोड़, तैयारी में सौ फीसदी दीजिए।

ये तमाम सवाल इन दिनों सीबीएसई की टेली काउंसिलिंग में बोर्ड परीक्षार्थियों द्वारा पूछे जा रहे हैं। परीक्षार्थियों के सवालों के जवाब विशेषज्ञों द्वारा दिए जा रहे हैं। इस बार पटना जोन से भी शिक्षकों को शामिल किया गया है। सैनिक स्कूल नालंदा के शिक्षक प्रमोद कुमार ने बताया कि इस बार परीक्षा को लेकर छात्राएं अधिक आत्मविश्वास से प्रश्न पूछ रही हैं। ज्ञात हो कि एक फरवरी से सीबीएसई की टेली काउंसिलिंग शुरू हुई है। बोर्ड परीक्षार्थी के लिए 25 सालों से टेली काउंसिलिंग की जा रही है।

यह 30 मार्च तक चलेगी। बोर्ड द्वारा इस बार सोशल साइट्स से भी काउंसिलिंग की जा रही है। सोशल साइट्स पर सीधा संवाद भी परीक्षार्थी विशेषज्ञ से करते हैं। काउंसलर प्रमोद कुमार ने बताया कि रात में आठ से 10 बजे तक उन्हें हर दिन काउंसिलिंग करनी होती है। इसमें 40 कॉल हर दिन आते हैं। इनमें 30 कॉल केवल अभिभावकों को लेकर आते हैं। परीक्षार्थी के ऊपर अभिभावकों का बहुत ही दबाव है। प्रमोद कुमार ने बताया कि कई बार बच्चों से फोन नंबर लेकर अभिभावकों की भी काउंसिलिंग की जाती है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here