बिहार बंद में शामिल हुई जनतांत्रिक विकास पार्टी, कहा – CAA को बताया काले अंग्रेजों का कानून

0
CAA और NRC को लेकर वामदलों का बिहार बंद

नेशन भारत,सेंट्रल डेस्क: नागरिकता संशोधन कानून और एनआरसी को लेकर आयोजित बिहार बंद में प्रदेश अध्‍यक्ष संजय कुमार मंडल के नेतृत्‍व में जनतांत्रिक विकास पार्टी भी शामिल हुई. इस दौरान जविपा ने केंद्र सरकार के खिलाफ पटना के डाक बंगला चौराहे पर जमकर नारेबाजे की और CAA व एनआरसी को काले अंग्रेजों का कानून बताया.

इस दौरान जविपा नेताओं ने कहा कि नागरिकता संशोधन कानून राष्ट्र की नींव को खोखला करने वाला कानून है या ना सिर्फ संविधान निर्माता डॉ बाबा साहब भीमराव अंबेडकर एवं सरदार वल्लभ भाई पटेल के विचारों के विरुद्ध है बल्कि संविधान के आत्मा के खिलाफ भी है. इस देश विरोधी कानून का विरोध करना हर देशवासियों का पुनीत कर्तव्य है नागरिकता संशोधन कानून धर्मनिरपेक्षता धर्मनिरपेक्षता विरोधी है और दबे कुचले शोषित वंचित दलित अल्पसंख्यक और पिछड़ों की आवाज को दबाने के लिए काले अंग्रेजों द्वारा बनाया गया कानून है.

उन्‍होंने कहा कि अहंकारी मोदी सरकार इस काले कानून के खिलाफ पूरे देश में हो रहे छात्र आंदोलन को कुचलने के लिए बर्बर तरीका अख्तियार कर रही है. प्रदर्शनकारियों पर गोली चलाई जा रही है. असम में प्रदर्शनकारियों को गोली मार दी गई है. जामिया जैसे विश्वविद्यालय में लाइब्रेरी में आंसू गैस के गोले छोड़े जा रहे हैं. उन्‍होंने कहा कि आज देश में भय और अशांति का माहौल है.

अराजकता व्याप्त है, परंतु मोदी सरकार नीरो की तरह चैन की वंशी बजा रहे हैं. ऐसे लोगों को सत्ता में रहने का कोई हक नहीं है. यहां तक कि इसके खिलाफ पूरे देश में चल रहे छात्र आंदोलन को कुचलने में मोदी सरकार तरह-तरह के हथकंडे अपना रही है और छात्रों को प्रताड़ित कर रही है. आज देश की अर्थव्यवस्था पूरी तरह से चौपट हो गई है.

जीडीपी न्यूनतम स्तर पर है. मोदी जी पाकिस्तान की बात तो खूब करते हैं लेकिन पाकिस्तान की जीत पर भारत से अच्छी है. इसकी चिंता सत्ता में बैठे लोगों को नहीं है. वे इन मुद्दों पर सवाल ही नहीं उठने देना चाहते हैं इसलिए दोबारा सरकार बनाने के बाद तीन तलाक, 370, एनआरसी और नागरिकता संशोधन कानून लाकर देश के संविधान को कमजोर करने की कोशिश की है और उन्माद जानबूझकर फैलाया गया है. बंद में प्रदेश अध्यक्ष संजय मंडल,प्रदेश उपाध्यक्ष बिंदेश्वरी सिंह, राजा यादव, अमरजीत कुमार,आंनद कुमार समेत सैकड़ों कार्यकर्ता शामिल हुए.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here