जिलाधिकारी श्री कुमार रवि ने आज बिहार मद्य निषेध और उत्पाद अधिनियम-2016 एवं (संशोधन) अधिनियम-2018 के सफल कार्यान्वयन हेतु समीक्षा

0
समीक्षा के क्रम में जिलाधिकारी ने पाया कि अनुमंडलाधिकारियों के द्वारा अधिहरित वाहनों की सार्वजनिक नीलामी कार्य में घोर लापरवाही बरती गई है, जिसका लाभ वाहन स्वामी ले रहें है। वे अधिहरित वाहन के मुक्ति हेतु माननीय उच्च न्यायालय से आदेश प्राप्त कर वाहन मुक्त करा ले रहें हैं, जिसके कारण राजस्व की हानि हो रही है। वाहन की सार्वजनिक नीलामी हेतु कई बार स्मारित भी किये गये है।
जिलाधिकारी ने पाया कि वरीय पुलिस अधीक्षक, सहायक आयुक्त, उत्पाद, एवं पुलिस अधीक्षक, आर्थिक अपराध ईकाई, बिहार, पटना द्वारा विभिन्न थाना कांडों में जब्त वाहन का प्राप्त अधिहरण प्रस्ताव के आलोक में वाहनों को राज्यसात (Confiscate) करते हुए सार्वजनिक नीलामी कर अर्थागम राज्य कोष में जमा करने का निदेश दिया गया था, जिसकी विवरणी अनुमंडल वार निम्नवत है:-
1. अनुमंडल पदाधिकारी, पटना सदर के पास नीलामी हेतु अधिहरित वाहनों की संख्या-65
2. अनुमंडल पदाधिकारी, पटना सिटी के पास नीलामी हेतु अधिहरित वाहनों की संख्या-20
3. अनुमंडल पदाधिकारी, बाढ़ के पास नीलामी हेतु अधिहरित वाहनों की संख्या-05
4. अनुमंडल पदाधिकारी, मसौढ़ी के पास नीलामी हेतु अधिहरित वाहनों की संख्या-07
5. अनुमंडल पदाधिकारी, दानापुर के पास नीलामी हेतु अधिहरित वाहनों की संख्या-13
6. अनुमंडल पदाधिकारी, पालीगंज के पास नीलामी हेतु अधिहरित वाहनों की संख्या-02
अनुमंडल पदाधिकारियों के द्वारा अधिहरित वाहनों की नीलामी में घोर शिथिलता बरती जा रही है।
जिला पदाधिकारी श्री कुमार रवि ने सभी अनुमंडल पदाधिकारियों से बिहार मद्य निषेध और उत्पाद अधिनियम-2016 एवं (संशोधन) अधिनियम-2018 के तहत अधिहरित वाहनों के नीलामी में बरती गई शिथिलता के संबंध में स्पष्टीकरण की मांग की।
जिलाधिकारी ने उक्त लापरवाही के आलोक में पत्र प्राप्ति के तीन दिनों के अंदर अपने स्पष्टीकरण समर्पित करने का निर्देश सभी अनुमंडल पदाधिकारी को दिया। साथ ही यह भी आदेश दिया कि स्पष्ट करें कि किस परिस्थिति में आपके द्वारा अभी तक वाहनों की नीलामी नहीं की गई। उन्होंने पुनः निदेश दिया कि अधिहरित वाहनों की नीलामी एक पक्ष के अंदर सुनिश्चित करते हुए अनुपालन प्रतिवेदन शीघ्र उपलब्ध करायें।
जिलाधिकारी के द्वारा बिहार मद्य निषेध और उत्पाद अधिनियम-2016 एवं (संशोधन) अधिनियम-2018 के सफल कार्यान्वयन की समीक्षा के क्रम में पाया गया कि जब्त शराब का अधिहरण, विनष्टीकरण प्रस्ताव उपलब्ध कराने में घोर लापरवाही बरती गई है।
जिलाधिकारी ने सभी अनुमंडल पदाधिकारी एवं सभी अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी से बिहार मद्य निषेध और उत्पाद अधिनियम-2016 एवं (संशोधन) अधिनियम-2018 के तहत जब्त शराब का अधिहरण/विनष्टीकरण प्रस्ताव नहीं उपलब्ध कराने के संबंध में स्पष्टीकरण की मांग की।
जिलाधिकारी ने पूछा कि आप सभी को निर्देश दिया गया था कि अपने-अपने क्षेत्रान्तर्गत पड़ने वाले थानों का संयुक्त रूप से भौतिक सत्यापन कर विहित प्रपत्र में तीन दिनों के अंदर जब्त शराब/मकान/वाहन का थानावार विवरणी उपलब्ध करायेंगे तथा प्रतिवेदन उपलब्ध नहीं कराने की स्थिति में जिला स्तर से वरीय दंडाधिकारी एवं पुलिस पदाधिकारी के द्वारा थानों का भौतिक सत्यापन कराया जाएगा। वरीय दंडाधिकारी एवं पुलिस पदाधिकारी के भौतिक सत्यापन प्रतिवेदन में यदि भंडारित मात्रा का शत प्रतिशत अधिहरण/विनष्टीकरण प्रस्ताव नहीं भेजा जाना पाया जाता है, तो इसके लिए दोषी पदाधिकारी की जवाबदेही निर्धारित करते हुए उनके विरूद्ध अनुशासनिक कार्रवाई करने हेतु सक्षम प्राधिकारी को संसूचित कर दी जायेगी। उक्त आदेश का अनुपालन भी आप सभी के द्वारा नहीं किया गया, जो चिन्ता का विषय है।
जिलाधिकारी ने निर्देश दिया कि पत्र प्राप्ति के तीन दिनों के अंदर अपना स्पष्टीकरण दें कि किस परिस्थति में आपके द्वारा अभी तक आपके क्षेत्राअन्तर्गत जब्त शराब का अधिहरण/विनष्टीकरण प्रस्ताव उपलब्ध नहीं कराया गया। क्यों नहीं आपके विरूद्ध अनुशासनिक कार्रवाई की अनुशंसा सक्षम प्राधिकार को भेजी जाय। साथ ही पुनः निर्देश दिया कि दिनांक 31.03.2019 तक जब्त शराब का अधिहरण/विनष्टीकरण प्रस्ताव उपलब्ध कराना सुनिश्चित की जाय।
जिलाधिकारी ने बताया कि वरीय पुलिस अधीक्षक, सहायक आयुक्त उत्पाद एवं पुलिस अधीक्षक रेलवे द्वारा विभिन्न थाना कांडों में जब्त शराब का प्राप्त अधिहरण, विनष्टीकरण प्रस्ताव के आलोक में शराब को राज्यसात (Confiscate) करते हुए विनष्टीकरण करने हेतु कमिटी गठित कर सभी अनुमंडल पदाधिकारी, पटना को प्राधिकृत किया गया है।
जिलाधिकारी ने सभी अनुमंडल पदाधिकारियोें को निर्देश दिया कि जब्त किये गये पूर्ण शराब को विशेष अभियान चलाकर अधिहरित शराब का विनष्टीकरण कार्य हर हालत में 31.03.2019 तक करना सुनिश्चित किया जाय।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here