राजधानी में लग गई चुनावी पोस्टर, हिसाब लो हिसाब दो

0
नए साल की शुरुआत के साथ बिहार चुनावी मोड में, राजधानी में लग रहे नए-नए पोस्टर

नेशन भारत, सेंट्रल डेस्क:  नए साल की शुरुआत होते ही बिहार चुनावी मूड में दिखने लगा है. प्रशांत किशोर के मिशन 2020 को लेकर दिए बयान और उसपर बीजेपी नेताओं की प्रतिक्रिया के साथ 2019 का जहां अंत हुआ वहीं 2020 के पहले ही दिन लोगों ने राजधानी में कई नए पोस्टरों को देखा. 

एक जनवरी को राजधानी पटना के विभिन्न चौक चौराहों पर जद यू की ओर से बड़े-बड़े होर्डिंग्स और पोस्टर लगाए गए हैं जिसमें लालू राबड़ी के शासन काल और नीतीश के शासन काल को तस्वीरों के माध्यम से दिखाया गया है. इस तस्वीर में लालू राबड़ी के शासन काल को भ्रष्टाचार एवं अपराध का प्रतीक बताया गया है तो नीतीश राज को सुशासन का. 

राजद ने नीतीश के 15 वर्षों के शासन काल का हिसाब मांगा था. माना जा रहा है कि उसी का जबाव देने के लिए पोस्टरबाजी की गई है. अब देखना है कि राज्य की मुख्य विपक्षी पार्टी जद यू के इस पोस्टर वार का जबाव किस तरह देती है.

वहीं पहली जनवरी को 1, अणे मार्ग में सीएम को बधाई देने पहुंचे उप मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी का सीएम नीतीश कुमार ने काफी गर्मजोशी के साथ गले मिल कर स्वागत किया. दोनों का इस अंदाज में गले मिलने का साफ संकेत था कि चाहे लाख तूफां आये नीतीश-मोदी की जोड़ी अटूट है. नीतीश कुमार ने सुशील मोदी को गले लगा कर विपक्ष को यह संकेत तो दे ही दिया है कि जदयू और बीजेपी में ऑल इज वेल है. 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here