फादर’स डे

0
fathers DAY

एक ऐसा दिन जो की पिता के नाम होता है , जिस दिन हम सभी फादर’स दे मनाते है कुछ खास करते है अपने पिता के लिए|

फादर’स डे सेलिब्रेशन यूनाइटेड स्टेट्स से शुरू हुआ था| एक महिला जिंका नाम सोनोरा स्मार्ट डोड्ड था उन्होने सोचा की जैसे हम मदर’स डे मानते है ठीक वैसे ही क्यू ना पापा को आदर करने के लिए फादर’स डे मानते है|

fATHERS dAY 2

हम एक ऐसी सदी मे जी रहे है जहा लोगो को एक दूसरे के लिए क्या खुद के लिए भी समय नही है| हर रोज़ की भाग दौड़, काम, पढ़ाई से किसी को किसी के लिए भी फुर्सत ही नही रहती है| इस लिए हम एक खास दिन रखते है ताकि हम वो दिन अपने अपनों के साथ मना सके, उस इंसान को यानि एक पिता को खास महसूस करवा सके जिसने अपनी आधी जिंदगी हमे बनाने मे लगा दी हो|

तो कुछ यू होती है शाम एक पिता की:-

एक शाम

एक शाम धुंधली सी,

चले आ रहे नंगे पाव, बोझिल आँखें गुम हो गई यूं सरे आम,

हजारों ख्वाहिशें हो गई थी नीलाम,

यूंही उलझे हुए कामो मे कुछ हैरान,कुछ परेशान,

खामोश है जुबां आंखो मे कई शोर है,

कुछ पूरी हुई तेरी बातें कुछ मेरी बातों पे ज़ोर है,

फिर जो आए लौट के खतम कर काम सुबह से शाम,

आवाज़ आई,आ गए पापा कैसे हो आप?

सब बढ़िया….

कुछ ऐसी ही एहसास होती है एक पिता के अन्दर की, बिना कुछ कहे हर चीजों को पूरा कर देना, अपनी परेशानियों को छुपा कर हमारी जरूरतों को पूरा करना, हमारी मुश्किलों को अपना बना लेना, कुछ ऐसे ही होते है पापा|

जैसा की इस वर्ष फादर’स डे 16 जून यानि कल मनाया जा रहा है जिसको ले कर लोगो मे काफी उत्साह है| बच्चे अपने-अपने पिता के लिए तोहफे ओर पार्टी आयोजित करेंगे|

पिता के फर्जों को एक दिन मे बयान नही कर सकते, समय की भाग दौड़ की वजह से हम भूल ही जाते है की पिता को सम्मान देना कोई एक दिन का मोहताज नही होता, हमे हर दिन ही पिता को सम्मान देनी चाहिए|

अन्य ख़बरों के लिए क्लिक करे

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here