SKMCH परिसर में नरकंकाल मिलने से मचा हड़कंप, जांच के आदेश दिए गए

0
HUMAN SKELETON
HUMAN SKELETON

बिहार के मुज़फ़्फ़रपुर में SKMCH अस्पताल के परिसर के पीछे मानव कंकालों की खोज की गई जहाँ तीव्र इंसेफेलाइटिस सिंड्रोम (एईएस) या जापानी इंसेफेलाइटिस के कारण कम से कम 108 बच्चों की मौत हो गई है।

समाचार एजेंसी एएनआई द्वारा पोस्ट की गई तस्वीरों में मुज़फ़्फ़रपुर में श्रीकृष्ण मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल (SKMCH) के परिसर के पीछे मानव हड्डियों और टूटी खोपड़ी के टुकड़ों को दिखाया गया है।

SKELETON IN SKMCH
SKELETON IN SKMCH
जांच समिति गठित की जायेगी 

SKMCH चिकित्सा अधीक्षक एसके शाही ने कहा कि कंकाल के अवशेषों का अस्पताल के पोस्टमार्टम विभाग द्वारा निस्तारण किया जा सकता है। उन्होंने स्वीकार किया कि इसे अधिक “मानवीय दृष्टिकोण” के साथ किया जाना चाहिए।
उन्होंने कहा, पोस्टमार्टम विभाग प्रिंसिपल के अधीन है लेकिन इसे मानवीय दृष्टिकोण के साथ किया जाना चाहिए। मैं प्रिंसिपल से बात करूंगा और उन्हें एक जांच समिति गठित करने के लिए कहूंगा। ”

ख़बरें यहाँ भी-

ईडी ने मेहुल चोकसी को भारत लाने के लिए एयर एम्बुलेंस मुहैया करवाने की पेशकश की

जांच दल ने किया दौरा 

एक जांच दल ने उस स्थान का दौरा किया जहां मानव कंकाल के अवशेष देखे गए थे।
जहां एईएस से पीड़ित 108 मरीजों की इलाज के दौरान मौत हो जाने के बाद अस्पताल की कड़ी आलोचना की गई है, वहीं कंकालों की खोज अस्पताल के लिए एक और झटका है।
आधिकारिक आंकड़ों से पता चलता है कि एईएस के कारण कम से कम 128 बच्चों की मौत हुई है, जो मुजफ्फरपुर जिले में दिमागी बुखार या चमकी का कारण बनता है। बिहार में कुल मिलाकर 140 से अधिक बच्चों की मौत हुई है।

नेशन भारत फेसबुक पर भी 

पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here