किताब पढ़ने से कम होता है तनाव और तरोताज़ा होता है दिमाग

0

हम 21 वीं सदी में जी रहे हैं जहां सब कुछ डिजिटल हो गया है, चाहे वो काम हो या खरीदारी या फिर पढ़ना। अब हम सिर्फ कमरे के एक कोने में बैठ कर कंप्यूटर स्क्रीन के सामने बैठ कर पढ़ सकते हैं। इससे तनाव बढ़ता है और आंखों की रोशनी कमजोर हो सकती है और सिरदर्द भी हो सकता है।
लेकिन शारीरिक रूप से किताबें पढ़ने से आप अपने तनाव को कम कर सकते हैं और अपने दिमाग को तरोताजा रख सकते हैं। रीडिंग आपके हृदय गति को कम करके और आपकी मांसपेशियों में तनाव को कम करके आपके शरीर को आराम दे सकती है।पढ़ना एक बहुत ही स्वस्थ और अच्छी गतिविधि है जिससे आप रोजमर्रा की जिंदगी के तनाव से निकल सकते हैं।

BOOK READING
BOOK READING

बस किताब खोलकर, आप अपने आप को एक ऐसी दुनिया में आमंत्रित करने की अनुमति देते हैं, जो आपको दैनिक तनाव से दूर रखती है।  ससेक्स विश्वविद्यालय में 2009 के एक अध्ययन में पाया गया कि पढ़ने से तनाव को 68% तक कम किया जा सकता है। यह अन्य विश्राम विधियों की तुलना में बेहतर और तेज़ काम करता है, जैसे कि संगीत सुनना या एक गर्म कप चाय पीना।

आप अपनी रुचि की कोई भी पुस्तक चुन सकते हैं जो आपको अनन्त आनंद दे सके। एक शांत जगह पर हर रोज पढ़ने के लिए 30 मिनट निर्धारित करें जहां आप परेशान नहीं होंगे।

यहां कुछ टिप्स दिए गए हैं जिनकी मदद से आप शुरुआत कर सकते हैं:-

1.  ऐसा जरूरी नही की आपके द्वारा चुनी गई पुस्तक किसी भी ‘बेस्ट-सेलर’ पर होनी चाहिए। इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि आप कौन सी पुस्तक चुनते हैं, चाहे वह एक रोमांटिक पेपरबैक, ग्रेंडिंग मैगज़ीन या यहां तक ​​कि एक कुकबुक हो। यदि यह आपको सुख और शांति देता है तो आपको इसे पढ़ना चाहिए।

READING BOOK WITH COFFEE
READING BOOK WITH COFFEE

2.     पढ़ने से तभी आपके तनाव कम हो सकते हैं जब आप कुछ ऐसा चुनते हैं जो पढ़ के आपको खुशी मिले ना की परेशानी हो। समाचार पढ़ना एक अच्छा विचार नहीं है क्योंकि यह शायद आपको गुस्सा, परेशान या असहाय बना देगा। बेहतर यह होगा की आप एक उपन्यास चुनें जो आपको दूसरी दुनिया में जाने में मदद करेगा।

3.     इस पर ध्यान दें  की आप पढ़ने के बाद कैसा महसूस कर रहें हैं। क्या आप अपने तनाव को कुछ हद तक कम करने मे सफल हुए हैं? क्या आप राहत महसूस कर रहे हैं?

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here