बिहार की राजनीति में पोस्टर वार जारी, निकाल रहे एक दूसरे की कमी

0
Bihar मे 15 -15 साल का आया सच, जनता ने नकारा इनके शासन को , Lalu के बारे मे जनता ये क्या कह दिया

नेशन भारत, सेंट्रल डेस्क: बिहार की राजनीति में पोस्टर वार जारी है. आरजेडी और जेडीयू के बीच जारी इस सियासी जंग ने बिहार विधान सभा चुनाव के संघर्ष का अहसास करीब 9 महीने पहले ही करवा दिया है. शुक्रवार को आरजेडी के पोस्टर के बाद जेडीयू ने एक बार फिर आरजेडी को पोस्टर के जरिये जवाब दिया है. पार्टी ने इस पोस्टर के जरिये जहां 15 साल बनाम 15 साल दिखाया है वहीं आरजेडी के लगाये पोस्टर में लिखे गए शब्दों की गलतियां दिखाते हुए तंज कसा है. जेडीयू ने इन खामियों को चरवाहा विद्यालय का आतंक बताया है.

जेडीयू द्वारा जारी पोस्टर में लालू राबड़ी के 15 वर्षों के शासन को कराहता बिहार से तुलना की है, वहीं सीएम नीतीश कुमार के नेतृत्व वाले 15 साल के शासन को संवरते बिहार की श्रेणी में दिखाया गया है. इस पोस्टर में शुक्रवार को राजद द्वारा जारी किए गए पोस्टर में ‘नीति’ शब्द को ‘निति’ लिखने और ‘टोकरी’ को ‘टोकड़ी’ लिखे जाने पर तंज कसा गया है और इसे चरवाहा विद्यालय से जोड़ा गया है.

बिहार में चल रहे पोस्टर वार में जेडीयू और आरजेडी के बीच अब कांग्रेस भी खुलकर सामने आ गई है. कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने शहर भर में पोस्टर लगाए हैं जिसमें क्रिकेट मैदान की शक्ल देते हुए यूपीए और एनडीए को दो खेमो में दिखाया गया है . इस पोस्टर के जरिए नीतीश कुमार पर हमला करते हए कई सवाल दागे गए हैं. 2020 के चुनाव को टेस्ट की जगह 20- 20 का मैच बताया गया है और पूछा गया है कि जो वादे नीतीश कुमार ने जनता से किए थे उन वादों का क्या हुआ?

गौरतलब है कि पोस्टर वार की शुरुआत गुरुवार को पटना शहर के बीचोंबीच इनकम टैक्स चौराहे पर एक बड़ा पोस्टर लगने के साथ हुई थी. इसमें सीएम लालू-राबड़ी शासन काल के 15 साल और सीएम नीतीश कुमार के शासन काल के 15 साल की तुलना की गई थी.

‘हिसाब दो-हिसाब लो’ शीर्षक से जारी इस पोस्टर में लालू-राबड़ी के शासनकाल को जंगलराज और सीएम नीतीश के शासन को सुशासन दिखाने की कोशिश की गई थी. वहीं आज इसके जवाब में आरजेडी ने एक नया पोस्टर जारी कर दिया था.इस पोस्टर में भी 15 साल बनाम 15 साल की तुलना करते हुए लालू-राबड़ी शासन काल को गरीबों का राज और सीएम नतीश के शासन काल को अपराधियों का राज कहा गया था.

इसमें गरीबों का राज वाले सेक्शन में लालू यादव को गरीबों का मसीहा दिखाने की कोशिश की गई है जबकि सीएम नीतीश कुमार के शासन काल की अपराध की उन घटनाओं को दर्शाया गया है जो मीडिया की सुर्खियों में रही.शुक्रवार को ही राजद कार्यालय के गेट पर भी दूसरा पोस्टर लगाया गया था. इसमें सीएम नीतीश कुमार और डिप्टी सीएम सुशील कुमार मोदी की तस्वीरें चस्पा की गई थी. इसमें नीतीश कुमार को ‘झूठ की टोकरी’ लिए हुए दिखाया गया था और सुशील मोदी को ‘जुमलों की टोकरी’. शनिवार को जेडीयू ने इसी का जवाब दिया.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here