CM नीतीश पर रघुवंश सिंह का उमड़ा प्यार, कहा, आपके लिए झगड़ा भी कर लूंगा

0
राजद के प्रदेश अध्यक्ष जगदानंद सिंह से नाराज चल रहे पार्टी के वरिष्ठ नेता रघुवंश प्रसाद सिंह का सीएम नीतीश कुमार के लिए अचानक प्यार उमड़ पड़ा

नेशन भारत, सेंट्रल डेस्क: अपनी पार्टी राजद के प्रदेश अध्यक्ष जगदानंद सिंह से नाराज चल रहे पार्टी के वरिष्ठ नेता रघुवंश प्रसाद सिंह का सीएम नीतीश कुमार के लिए अचानक प्यार उमड़ पड़ा है. उन्होंने कहा है कि अगर नीतीश कुमार भाजपा का साथ छोड़कर वापस आ जाएं तो मैं अपने पार्टी से झगड़ा करने को भी तैयार हूं. पटना में मंगलवार को राजद के वरिष्ठ नेता रघुवंश प्रसाद सिंह ने प्रेस कांफ्रेंस कर पार्टी प्रदेश अध्यक्ष जगदानंद सिंह के खिलाफ मोर्चा खोला. रघुवंश ने संवाददाता सम्मेलन में कहा कि पार्टी मे मिलिट्री शासन नहीं चलेगा.

आपको बता दें कि इससे पहले रघुवंश प्रसाद सिंह ने पार्टी प्रमुख लालू प्रसाद यादव को पत्र लिखकर विधानसभा चुनाव की तैयारियों को लेकर पार्टी द्वारा सुस्त रवैया अपनाने का आरोप लगाया था. उन्होंने इस विषय में लालू से कार्रवाई की मांग करते हुए कहा था कि अभी तक कोई समिति नहीं बनाई गई है.


राजद में अंदरूनी कलह इसके बाद सामने आ गई थी और पार्टी नेता तेजस्वी नेता ने डैमेज कंट्रोल करते हुए कहा था कि ये तो अच्छी बात है कि कोई पार्टी में चुनाव तैयारी को लेकर कमियों को बता रहा है, इससे पार्टी को फायदा होगा. हमें उस कमी को दूर करने का मौका मिलेगा.

बता दें कि रघुवंश के निशाने पर पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष जगदानंद सिंह हैं, जिन्हें हाल ही में पार्टी ने राज्य की कमान सौंपी है. सूत्रों का कहना है कि रघुवंश प्रसाद सिंह और जगदानंद सिंह में पहले से भी तनातनी रही है लेकिन जब से जगदानंद सिंह को पार्टी का प्रदेश अध्यक्ष बनाया गया है, तब से दोनों के बीच तल्खी कुछ ज्यादा ही बढ़ गई है.


रघुवंश ने लालू को लिखे पत्र में सवाल उठाया था कि क्या संगठन बिना संघर्ष और संघर्ष बिना संगठन के मजबूत किया जा सकता है ? सबसे बड़ा जनाधार और सबसे बड़ी फौज वाली पार्टी का संगठन बहुत जल्द बनाकर क्या हमें चुनाव की तैयारी में नहीं लग जाना चाहिए ?


पार्टी के वरिष्ठ नेता शिवानंद तिवारी ने रघुवंश प्रसाद सिंह के सुर में सुर मिलाते हुए कहा कि दोनों के बीच विचारधारा को लेकर अंतर है. यह केवल कम्युनिकेशन गैप है. दोनों एक जगह मिलकर बैठेंगे तो सारी गलतफहमियां दूर हो जाएंगी. उन्होंने कहा कि पार्टी के भीतर लोकतंत्र है और रघुवंश प्रसाद ने पार्टी के हितों के बारे में ही लिखा है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here