बोले राजद के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष शिवानंद तिवारी- बिहार में बीजेपी की नहीं है कोई हैसियत

0

नेशन भारत, सेंट्रल डेस्क:  भारतीय जनता पार्टी बिहार में अकेले बहुमत हासिल करने की हैसियत अब तक नहीं बना पाई है. बिहार का अगला विधानसभा चुनाव भाजपा नीतीश कुमार कुमार के ही नेतृत्व में लड़ेगी. अमित शाह के बयान से अब यह स्पष्ट हो गया है.

पिछले दिनों, विशेष रूप से जल जमाव को लेकर भारतीय जनता पार्टी के नेताओं ने नीतीश कुमार पर जिस प्रकार हमला बोला था उस से ऐसा आभास हो रहा था कि नीतीश कुमार को अब ये लोग सहन करने वाले नहीं हैं. अमित शाह के बयान के बाद वैसे लोग जो नेतृत्व में बदलाव का शोर मचा रहे थे, अब चुप हो जाएंगे गठबंधन को लेकर असमंजस की स्थिति पैदा करने में नीतीश कुमार ने भी बहुत चतुराई दिखाई.

इसे भी पढ़ें: 1920 और राज के बाद अब विक्रम भट्ट की नई हॉरर फिल्म ‘घोस्ट’18 अक्टूबर को होगी रिलीज

हम लोगों के यहाँ उनका संदेसा आया कि उस गठबंधन में वे सहज महसूस नहीं कर रहे हैं . उनकी तथाकथित सेकुलर आत्मा उनको वहाँ धिक्कार रही है. हम लोग उनके झाँसे में आ गए और सार्वजनिक रूप से उनका स्वागत कर दिया. नीतीश कुमार के नेतृत्व को लेकर अमित शाह के एलान के पीछे इसकी भूमिका भी रही होगी.

वोट में हार-जीत का अपना गणित होता है. उस गणित से लोगों का दुख तकलीफ़ नहीं मिटता है. अभी चुनाव अभियान में दो दिन मैं सिवान के दरौंदा विधानसभा के गाँवों में घूम कर आया हूँ. छोटी-छोटी जातियों के बाहर कमाने वाले लोग गाँव लौट रहे हैं. जिन छोटे-मोटे कल-कारख़ानों मे वे काम करते थे, बंद हो गए हैं या बंद हो रहे हैं. गाँव में कोई काम नहीं है. उनके चेहरे पर भूख दिखाई दे रही थी. गाँव में भूख का पाँव पसर रहा है.

दिल्ली और पटना, दोनों सरकारों के एजेण्डा में रोज़ी-रोज़गार, भूख-प्यास का स्थान नहीं है. वोट के गणित में यह सरकार ज़रूर आगे है. इसका सेहरा बहुत कुछ हम दिशाहीन विपक्षियों के सर भी है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here