सारण हुआ शर्मशार 7 वर्षिये बच्ची को भी नही छोड़ा हैवानियत

0

छपरा – निर्भया कांड दोहराया गया सारण जिला के रसूलपुर थाना क्षेत्र के धानाडीह गांव में। सगे रिश्तेदार ने बलात्कार की घटना को अंजाम देने के बाद चाकू मार मरने के लिए बघार में गेंहू के खेत में फेंक दिया जहां से बेहोशी की हालत मे मिली बच्ची को पुलिस ने बेहतर इलाज के लिए पीएचसी एकमा पहुंचाया जहां से सदर अस्पताल छपरा रेफर कर दिया गया।

रिश्ते की सात साल की मासूम बच्ची को चाकू से गोदकर फरार हुआ रिश्तेदार युवक। हैवानियत खेल खेलकर युवक हुआ फरार। बेहोशी की हालत में गेंहू के खेत में मिली पीड़ित बच्ची। पुलिस आरोपी की तलाश में कर रही है छापेमारी।

घटना रसूलपुर थाना इलाके के धानाडीह गाँव की है जहाँ पारिवारिक विवाद का विष रिश्तेदार ने अपनी सात वर्षीया भतीजी पर उगलते हुए उसके साथ बलात्कार की घटना को अंजाम देने के बाद सबूत मिटाने के उद्देश्य से चाकू से गोदकर मरने के लिए फेंक दिया। पिछले शाम से गायब बच्ची को सुबह में शौच के लिए निकले लोगो ने खून से लथपथ गेंहू के खेत मे बेहोश पाया जिसके बाद उसे उठा कर इलाज के लिए पीएचसी लाया गया।

पीड़िता के पिता तारकेश्वर सिंह की माने तो उनके रिश्ते के नाती ने उसके साथ घिनौना काम किया है वही पीड़िता की माँ के मुताबिक खाने का लालच देकर घिनौना कृत्य किया है । धानाडीह निवासी झाबर सिंह की 7 वर्षीया पुत्री के साथ पट्टीदार रिजूल सिंह जो रिश्ते में पीड़िता का भतीजा लगेगा ने घटना को अंजाम दिया है। पीड़िता के साथ हैवानियत का खेल भी खेला गया है जिसकी पुष्टि मेडिकल के बाद ही हो सकती है लेकिन परिस्थितियां गवाही दे रही हैं कि बच्ची हैवान रिश्तेदार की शिकार बन सदर अस्पताल में जिंदगी और मौत से जूझ रही है। बहरहाल आरोपी अभी फरार है जबकि पुलिस उसकी तलाश में छापेमारी कर रही है। रसूलपुर के धानाडीह काण्ड में गठित मेडिकल टीम की सदस्य महिला चिकित्सक की बात सुनकर रोंगटे खड़े हो जाएंगे आपके। दिल्ली की निर्भया कांड को भी पीछे छोड़ते हुए हैवानियत की पराकाष्ठा को लांघ गया है आरोपी। आप सुनिए और तय कीजिये कि क्या एक इंसान जानवरो से भी बदतर हो सकता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here