हिंदू धर्म शास्त्रों में सुहाग का सबसे बड़ा पर्व तीज आज मनाया जा रहा है

0
TEEJ
TEEJ
बिहार के मोतिहारी हिंदू धर्म शास्त्रों में सुहाग का सबसे बड़ा पर्व तीज व्रत माना गया है इस पर्व को हिंदुस्तान ही नहीं बल्कि नेपाल में भी बड़े ही धूमधाम से मनाया जाता है और इसी पर्व के साथ धार्मिक उत्सवों का आगाज भी शुरू हो जाता है।
तीज को लेकर हर सुहागिन महिलाएं बड़ी ही उत्सुक रहती है, हफ्तों पूर्व से तीज की तैयारी को लेकर कपड़े व श्रृंगार पकवान में पूरकिया, खजुरी अन्य सामान बनाने में लीन रहती है ,इस दिन अपने पारंपरिक परिधानों में सज धज कर सोलह सिंगार कर महिलाएं पारंपरिक गीत और नृत्य प्रस्तुत कर अपनी खुशी का इजहार करते हुए तीज व्रत मनाती है।
तीज 2 सितंबर को सुबह 9 बजे तक ही है गांव हो या शहर हर तरफ तीज पर्व को लेकर धूम मची है, सुहागिन महिलाएं  सोलह श्रृंगार कर भोलेनाथ व मां पार्वती के प्रसन्न करने के लिए निर्जला व्रत करती है, हिंदू धर्म में हरियाली तीज का विशेष महत्व है शादीशुदा महिलाएं अपने उत्तम संतति और सौभाग्य के लिए यह व्रत करती है।
हरियाली तीज माता पार्वती और भगवान शिव के मिलन का दिन माना जाता है, पौराणिक मान्यताओं के अनुसार श्रावण मास के शुक्ल पक्ष की तृतीया तिथि को भगवान शिव और माता पार्वती का मिलन हुआ था, इसलिए इस दिन को हरियाली तीज कहा जाता है ,माता पार्वती बनी भगवान शिव की अर्धांगिनी गृहस्थाश्रम को संगठनात्मक व्यवस्था को मजबूत करने में यह पर्व अति महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।
 शिव पुराण के अनुसार माता पार्वती ने भगवान शिव को पति के रूप में पाने के लिए एक सौ सात जन्मो तक कठिन तप किया, फिर भी उनको मनोकामना पूर्ण नहीं हुई उन्होंने अपने 108 में जन्म में इसी व्रत  के प्रभाव से भगवान शिव को प्रसन्न करने में सफल रही भगवान शिव ने माता पार्वती के व्रत से प्रसन्न होकर उनको अपनी अर्धांगिनी बनाया।
हरियाली तीज के दिन महिलाएं सोलह श्रृंगार करती है और शाम को होने वाली पूजा के दौरान माता पार्वती को सोलह श्रृंगार की वस्तुएं तथा भगवान शिव का वस्त्र अर्पित कर पूजन करती है।
आज ही के दिन चौठी चांद का पर्व पर संध्या में मनाया जाएगा,आज ही के दिन मान्यता है कि एक दूसरे के घरों के छप्परो पर ढेला फेंकने का भी रिवाज है। अब ये रिवाज ग्रामीण इलाकों में रह गया है वह भी लुप्त होता जा रहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here