पटना से दिल्ली तक जुड़े थे ठगों के तार, तीन धराए

0
पटना सहित कई राज्यों में मेडिकल कॉलेजों में दाखिला कराने के नाम पर ठगी करने वाले फुलवारीशरीफ के मशरुल हक उर्फ अबशार कादरी के बड़े गिरोह का नोएडा पुलिस ने भंडाफोड़ किया

नेशन भारत, सेंट्रल डेस्क: पटना सहित कई राज्यों में मेडिकल कॉलेजों में दाखिला कराने के नाम पर ठगी करने वाले फुलवारीशरीफ के मशरुल हक उर्फ अबशार कादरी के बड़े गिरोह का नोएडा पुलिस ने भंडाफोड़ किया है। सरगना समेत तीन को गिरफ्तार किया है। गिरोह पटना के तीन दर्जन लोगों से 20 करोड़ ठग चुका है। गिरोह नीट लेने वाली एजेंसी से परीक्षार्थियों का डाटा हासिल करता था।

इसे भी पढ़ें: अब दारोगा बनने के लिए 28 सितंबर तक करें ऑनलाइन आवेदन, BPSSC ने बढ़ा दी तारीख

उनके नंबर का पता लगा लेता था। यह काम अबशार के जिम्मे था। वैसे अभ्यर्थियों व उनके अभिभावकों को फोन करता था जो ऊंचे पद पर या बड़े कारोबारी हों। गिरोह के लोग कहते थे कि आपके बेटे को नीट में इतने नंबर आए हैं। अगर मेडिकल कॉलेज में दाखिला कराना है, तो 40-50 लाख देने होंगे। टॉप कॉलेज में दाखिले का रेट 80 लाख से एक करोड़ के बीच था।

जनकपुरी में था ऑफिस

गिरोह ने दिल्ली के जनकपुरी में शानदार ऑफिस खोला था। पटना समेत अन्य शहरों में भी ऑफिस है। नोएडा में ठगी पैसे के लेन-देन के विवाद में एक सदस्य की हत्या की जांच में गिरोह का खुलासा हुआ। नोएडा के एक्सप्रेस वे थाने के प्रभारी ने बताया कि यह गिरोह दाखिला नहीं कराता था, केवल ठगता था। दाखिले से 10 दिन पहले ऑफिस बंद कर चंपत हो जाता था।

एमबीए का छात्र है अबशार

अबशार, नीरज व अभिषेक एमबीए हैं। निखिल इंजीनियर है। गिरोह के शातिरों के बीच राज्य बंटा था। संजीव बिहार देखता था। ये पहले रेलवे में नौकरी के नाम पर ठगते थे। गिरोह में अबशार के अलावा एसकेपुरी का अभिषेक, न्यू पाटलिपुत्र कॉलोनी का निखिल, मनेर का विकास, जानीपुर का रौशन, औरंगाबाद का नीरज, नालंदा का राजेश कुर्मी उर्फ दबंग व यूपी के आजमगढ़ का धीरेंद्र, गाजियाबाद के संजीव समेत कई सदस्य हैं। नीरज गिरोह का मास्टरमाइंड है। वह जेल भी जा चुका है।

बंटवारे के पैसे के लिए ही हुई थी बेउर में हत्या

ठगी की रकम के लेन-देन के विवाद में ही गिरोह के दो शातिरों की हत्या हुई। पिछले माह जानीपुर के रौशन की हत्या बेउर थाना इलाके में उस वक्त हुई थी जब वह पटना सिटी से कार से घर लौट रहा था। इसी गिरोह से जुड़े संजीव की हत्या 8 सितंबर को दिल्ली में हुई और शव को एक्सप्रेस वे थाने के बाजिदपुर गांव के पास फेंक दिया गया था। हत्या में गिरोह के सरगना नीरज के साथ ही निखिल व धीरेंद्र को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है जबकि अबशार, विकास, राजेश कुर्मी व अभिषेक फरार हैं। इनके पास से एक लाख नकद, मेडिकल कॉलेजों की 24 मुहर, नीट परीक्षार्थियों के डाटा बरामद किए गए हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here