वरुण हत्याकांड में उसकी कथित पत्नी गिरफ्तार, साजिश के तहत रेतवा दी थी वरुण की गर्दन

0

मोतिहारी। अगरवा के स्कार्पियो चालक वरुण तिवारी हत्याकांड में पुलिस ने एक महिला को गिरफ्तार किया है। महिला रेणु देवी पताही थाने के लक्ष्मी नारायण साह की पत्नी बताई जा रही है। वह अगरवा मोहल्ले में किराए के मकान में रह कर सिलाई का काम करती है। वरुण तिवारी रेणु के साथ रहता था। वरुण अगरवा के ही टुल्लू सिंह का स्कार्पियो चलाता था।

2 मई 2017 को पुलिस ने मुफसिल थाने के जीवधारा-सूर्यपुर रोड में नहर किनारे से वरुण का शव बरामद किया था। जिसकी धारदार हथियार से गर्दन रेत कर मौत के घाट उतारा गया था। मामले में वरुण के पिता सुरेंद्र तिवारी ने मुफसिल थाने में कांड स 210/17 दर्ज कराया। जिसमे गाड़ी मालिक टुल्लू को भी आरोपित किया गया था।

बताया जा रहा है कि एक साजिश के तहत महिला ने कुछ अन्य आशिकों के साथ मिलकर रास्ते से हटाने के उद्देश्य से वरुण की हत्या करा दी।

एलआईसी पॉलिसी में पिता को हटा रेणु का नाम कराया एड

वरुण ने 20 लाख का लाइफ इंश्योरेंश के नॉमिनी में पिता का नाम हटा कर रेणु का नाम जुड़वाया था। तकरीबन एक माह पहले वरुण ने अपने पिता का नाम नॉमिनी से हटवाया था। अलबता इस तरह की किसी भी जानकारी होने से रेणु देवी इनकार कर रही है। दूसरी ओर वरुण शिवहर खैरवादह अपने पैतृक गांव का जमीन 1 लाख 40 हजार मे बेंचकर अपनी गाड़ी खरीदने का प्लान बनाया था। उसकी उक्त राशि को भी गायब कर दी गई। बहरहाल पुलिस मामले में गाड़ी मालिक के अलावें कुछ अन्य सफेदपोशों की संलिप्तता को वैज्ञानिक तकनीक से खंगाल रही है।

गाड़ी के गायब होने का दर्ज हुआ था

मामलाटुल्लू सिंह ने गाड़ी के अपहरण की एफएआईआर दर्ज कराई थी। इसके अगले दिन वरुण तिवारी का शव मिला। जिसकी सूचना वरुण के पिता सुरेंद्र तिवारी को रेणु देवी ने ही दी थी। गायब स्कोर्पीयो भी लावारिश हालत में जिवधारा के समीप से बरामद कर ली गई थी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here